एकेश्वरवाद का मानव-जीवन पर प्रभाव - जानने अल्लाह
  • इच्छाओं को क़ाबू में करना

    Site Team

    इन्सान और उसकी इच्छाओं के बीच दो में से एक ही रिश्ता हो सकता है—या तो इन्सान इच्छाओं को कंट्रोल करे या

    19/09/2013 1119
  • सच्चाई

    Site Team

       एकेश्वरवाद को मानकर इन्सान सच्चाई को पसन्द करने वाला (Truth-loving Person) बन जाता है। वह हमेशा सच बोलता

    19/09/2013 933
  • अल्लाह की चेतना

    Site Team

     एकेश्वरवाद का माननेवाला यह मानता है कि अल्लाह का अस्तित्व है और वह सब कुछ देख और सुन रहा है। यह एहसास उसे सारी

    18/09/2013 1494
  • धैर्य

    Site Team

     एकेश्वरवाद को माननेवाला व्यक्ति अपनी सभी सफलताओं और असफलताओं का श्रेय (Credit) अल्लाह को देता है। नतीजा यह होता

    18/09/2013 1232
  • आशावाद, न कि निराशावाद

    Site Team

    दुनिया की सारी तरक़्क़ियों और आविष्कारों (Discoveries) के पीछे एक चीज़ होती है और वह है उम्मीद (Hope), कामयाबी की

    18/09/2013 1642
  • विनम्रता और सज्जनता

    Site Team

     एक बेहद ताक़तवर और हमेशा रहनेवाले अल्लाह को मानने का नतीजा यह होता है कि इन्सान अपनी ताक़त को उसकी ताक़त के

    17/09/2013 773
  • पैदा करनेवाले से सीधे तौर पर सम्पर्क

    Site Team

    यह मानना कि अल्लाह हर इन्सान के क़रीब है, उसे देखता और सुनता है, इन्सान को इन्सान की दासता से आज़ाद करता है और

    17/09/2013 821
  • आत्मविश्वास और आत्मसम्मान

    Site Team

     एकेश्वरवाद अर्थात् यह मानना कि सब अल्लाह पर निर्भर हैं और वह किसी पर निर्भर (Depend) नहीं, इन्सान को आज़ादी और

    17/09/2013 1361
  • सम्पूर्ण सृष्टि के साथ एकता का एहसास

    Site Team

    इन्सान और सृष्टि का एक बनाने और चलाने वाला है। इस बात से इन्सान में एकत्व (Oneness) का एहसास पैदा होता है। वह सब

    16/09/2013 1190